समर्थक

शनिवार, 16 अप्रैल 2011

लघु कथा -हद

'वंदना ' देख रितेश ने मुझे कितने सुन्दर कंगन दिए हैं ?''चहकती हुई सुमन की बात सुनकर वंदना थोड़ी नाराज होते हुई बोली ''....सुमन ये सब ठीक नहीं ...तू जानती है ताऊ जी कितने गुस्से वाले हैं !..यदि उन्हें पता चल गया तू कॉलिज में किसी लड़के के साथ प्रेम लीला कर रही है वो तुझे जीते जी जमीन में गाड़ देंगे  और ताई जी तो कुछ बोलेंगी भी नहीं तेरे पक्ष में ...वो तो खुद घबराती हैं ताऊ जी से ....मेरी बात सुन रितेश से सब मतलब ख़त्म कर ले .....'' ''नहीं वंदना ...मैं रितेश के साथ धोखा नहीं कर सकती ' सुमन बात काटते  हुए बोली .........      ''तो मर .....' वंदना ने सुमन का हाथ झटका और उठकर वहां से चली गयी .अगले दिन वंदना कॉलिज गयी  तो पता चला कि सुमन कॉलिज नहीं आयी .अनजाने भय से उसका ह्रदय काँप गया .कॉलिज से लौटते  हुए वंदना सुमन के घर गयी तो पता चला कि वो कल ताऊ जी के साथ अपने मामा के घर चली गयी है .इस तरह एक महीना बीत गया फिर एक दिन वंदना के पिता जी ने घर लौटकर बहुत धीमे स्वर में बताया -''सुमन ने मामा के घर में आग लगाकर आत्महत्या कर ली कल रात .बहुत मुश्किल से मामला रफा-दफा हो पाया है पुलिस में वरना वे तो भाई साहब  को फंसा रहे थे कि उन्होंने मारा hai सुमन को .... उसे मार भी देते तो क्या ?घर की इज्जत सडको पर नीलाम  होने देते ?आखिर लड़की को अपनी हद में तो रहना ही चाहिए !''आँखों -आँखों  में वंदना को भी धमका डाला था उन्होंने .

5 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

vartman me bhi yahi sthiti hai ladkiyon kee.satya se ru-b-ru karati bahut sarthak laghu katha.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत बढ़िया लघुकथा!

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

मार्मिक कहानी जो हकीकत है आज की !

bhola.krishna@gmail .com ने कहा…

Shikha Beti,
Ram Ram,

Very touching & effective story.
U know the Supreme Court has since acted to protect the girls. Keep the struggle on,BUT do not let the buds get nipped. She should have lived.
Our love & blessings.

Mrs. Dr. Krishna & BHOLA
ANDOVER, MA. (USA)

विवेक मिश्र ने कहा…

had ka to sabhi ko dhyan rakhana chahiye..
aajadi ka matalab ye nahi hai ki jo man me aaye wo kiya jai
hum sab ko sonchana hoga ki hamare kin faisalo se kitane logo par asar pad raha hai
aur ye bat mahila/purush ma-bap/santan sabhi par lagu hoti hai