समर्थक

रविवार, 30 दिसंबर 2012

रौब के तोते -लघु कथा

 

पुलिस स्टेशन में लैंडलाइन फोन बजा .थानाध्यक्ष ने रिसीवर उठाया .फोन पर आवाज़  साफ़ नहीं आ रही थी .उधर से कोई महिला बोल रही थी .थानाध्यक्ष जी समझने की कोशिश करते हुए प्रश्नों की बौछार करने में जुट गए -''.......क्या ...कौन भाग गयी ...किस इलाके से बोल रही हो ...भाई हमारा थाना वहां नहीं लगता ...अपने बच्चों को सँभालते नहीं....यहाँ फोन कर देते हो ......किसे किसे ढूंढें ....पहले ही गोली क्यों नहीं मार देते ....?'' ये कहकर थानाध्यक्ष जी ने फोन झटककर रख दिया .तभी उनका निजी  मोबाइल बज उठा .कॉल  घर से थी .वे कुछ बोलते उससे पहले ही उनकी श्रीमती जी का उन्हें लताड़ना शुरू हो गया - ''मोबाइल मिलाओ वो नहीं मिलता .थाने के नंबर पर फोन करो तो आप आवाज़ नहीं पहचानते .घंटे भर से आपको बता रही हूँ कि सपना एक चिट्ठी  लिखकर भाग गयी है किसी लड़के के साथ .ढूंढो उसे .'' ये कहकर गुस्से में श्रीमती जी ने फोन काट दिया और थानाध्यक्ष जी के रौब के तोते उड़ गए .
                               शिखा कौशिक 'नूतन '

12 टिप्‍पणियां:

Ramakant Singh ने कहा…

सच कहा आपने एक सच्ची कथा. खुद पर गुजरती है तब पता चलता है

शालिनी कौशिक ने कहा…

उड़ने ही थे बहुत सही बात कही है आपने .सार्थक भावनात्मक अभिव्यक्ति भारत सरकार को देश व्यवस्थित करना होगा .

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

पुलिस को हर बात देर से समझ आती है खुद पर गुजरती है तब पता लगता है,,,

recent post : नववर्ष की बधाई

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। नव वर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ। धन्यवाद सहित

प्रेम सरोवर ने कहा…

आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। नव वर्ष 2013 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ। धन्यवाद सहित

Asha Saxena ने कहा…

अच्छी कथा |नव वर्ष पर शुभ कामनाएं
आशा

कविता रावत ने कहा…

सच जब अपने पर पड़ती है तो हाथों से तोते उड़ जाते हैं ...
...बहुत बढ़िया प्रस्तुति ...
नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

Sriram Roy ने कहा…

नव वर्ष मंगलमय हो,.सुन्दर प्रस्तुति ....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

चुटीला व्यंग ... सत्य के करीब ...

Pavitra_Hyd ने कहा…

achchi laghu katha

Pavitra_Hyd ने कहा…

achchi ,sarthak laghu katha.

sarik khan ने कहा…

very very very nice