समर्थक

गुरुवार, 15 मार्च 2012

तेरे ही कर्म -A SHORT STORY


गूगल  से साभार 
 

    बयालीस   वर्ष   की   आयु   में   अचानक  ह्रदय गति   रुक  जाने  से   मृत्यु    को    प्राप्त   चपल   ने   भगवान   के   दरबार   में   पहुचकर    पूछा  - ''हे   प्रभु   मेरे   साथ   ये   अन्याय   क्यों   किया   ?मेरा   परिवार   -मेरे  बच्चे  सब  अनाथ   हो  गए  .''प्रभु  व्यंग्ययुक्त   स्वर  में  बोले    -''मूर्ख  आज  से दस  साल पहले जब  तू   भीषण   दुर्घटना   में  भी   बाल  -बाल  बच   गया   था  तब  तेरा  ही  एक  सत्कर्म  तेरी  रक्षा  कर  रहा  था  .तूने  एक  गरीब  किसान  की  जमीन   महाजन  के  चंगुल  में  जाने से बचवाई  थी  पर  अब  तू  घर  में  बैठे  बैठे  ही  इस  तरह  इसलिए  मर  गया  क्योंकि   तेरा  एक  दुष्कर्म  तेरे  सब  पुण्यों     को लील   गया  तूने  एक  गरीब  से भी  रिश्वत    ले ली  जबकि  उसकी  पत्नी  दवाई  के  पैसे  न  होने  के  कारण   बीमारी  में  चल  बसी  .मैं  न  तो   किसी    के  साथ  न्याय  करता  हूँ  और  न  अन्याय  ..ये  तेरे  ही  कर्म  होते  हैं  .यमदूतों -   इसे  नरक  में  छोड़  आओ  !''प्रभु  ऐसा   आदेश   देकर   अंतर्ध्यान  हो  गए  .
                                                                शिखा कौशिक 

5 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

तेरा एक दुष्कर्म तेरे सब पुण्यों को लील गया...
पाप पुन्य का लेखा जोखा करती सुंदर कहानी ...

MY RESENT POST...काव्यान्जलि ...: तब मधुशाला हम जाते है,...

शालिनी कौशिक ने कहा…

jab apne par padi to bhagwan yad aaye moorkh pahle sochta to kuchh ho sakta tha.bahut badhiya sarthak prastuti.
यह चिंगारी मज़हब की.

मिश्री की डली ज़िन्दगी हो चली ने कहा…

achcha sandesh deti rachna

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सचेत करती हुयी कहानी ... पर समझ कर भी इंसान नहीं समझ पाता ...

दीपक बाबा ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति.