समर्थक

शनिवार, 18 अप्रैल 2015

''जागरूक महिलाएं !''


Image result for do mahilayen bazar me images 


भावना को सब्ज़ी मंडी से लौटते  हुए अचानक अपनी सहेली अनु मिल गयी .इधर-उधर की बातों के बाद दोनों की बातों के केंद्र में दोनों के बच्चे आ गए .भावना मुंह बनाते हुए बोली - क्या बताऊँ ! मेरा बेटा आठ साल का है और फेसबुक पर दिन-रात पता नहीं अपनी गर्ल-फ्रेंड  से क्या चैट करता रहता है .मैं रोकती हूँ तो कहता है सुसाइड कर लूँगा !'' अनु बड़ा सा मुंह खोलकर ''हा !'' करती हुई बोली -'' क्या बताऊँ मेरी बेटी ने भी नाक में दम कर रखा है . मोबाइल पर  व्हाटस एप पर दिन भर आँख गड़ाए रहती है . अभी सातवें साल में है . पढ़ने को कहो तो बहाने बनाती है . तंग करके रख दिया है !'' भावना उसके सुर में सुर मिलाते हुए बोली - हां ये तो है .वैसे भी कितना टाइम हम बच्चों पर लगा सकते हैं .घर के काम के बाद कुछ शॉपिंग , किटी पार्टी और पसंद के सीरियल ..सब कुछ छोड़ दें क्या !'' अनु भावना का समर्थन करते हुए बोली -'' ...और क्या .हम कोई सिक्टीस -सवेन्टीस की माँ है क्या ? जिनकी अपनी लाइफ ही नहीं होती थी...सुबह से शाम तक बस बच्चे..बच्चे..बच्चे  ...आफ्टर ऑल ..हम आज की जागरूक महिलाएं हैं . ''

शिखा कौशिक 'नूतन'

कोई टिप्पणी नहीं: