समर्थक

गुरुवार, 18 जुलाई 2013

कीमती सलाह -लघु कथा

Two Old Indian Man With Colorful Turban Stock Image - Image: 25949511
[कीमती सलाह -लघु कथा [सर्वाधिकार सुरक्षित ]चित्र गूगल से साभार ]

''...और सुनाओ ठाकुर क्या चल रहा है ? लौंडा किसी काम पर लगा या नहीं ?'' सत्तो ने सड़क पर अचानक मिले अपने मित्र से पूछा तो ठाकुर खिसियाता हुआ बोला -'' कहाँ यार ? कुछ सूझ ही नहीं रहा है ....तू बता क्या धंधा जुड़वाऊं ?'' सत्तो दोनों हाथ पीछे बाँधकर तजुर्बेदार बनता हुआ बोला -''..रोड़ी -बदरपुर का काम जोड़ ले ,सीमेंट की एजेंसी ले ले .....भाई अब के नगरपालिका  चुनाव में अपने वार्ड से तेरा जीतना तय  है .जो भी चेयरमैन बने उससे बनाकर रखना ...ठेकेदार का कमीशन पक्का रखना ..बस माल के ऑडर पर ऑडर मिलते जायेंगें तू सप्लाई करता जाना ....सच्ची कहूँ करोड़ों कमावेगा .'' ठाकुर ने सत्तो से हाथ मिलाते हुए कहा -''...सच यार ..दूर की कौड़ी ढूंढ लाया है तू तो ..शुक्रिया !

शिखा कौशिक 'नूतन '

6 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

vakai keemati hai .nice story .

Arun Sharma ने कहा…

आपकी यह रचना आज शुक्रवार (19-07-2013) को निर्झर टाइम्स पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

behtareen...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

यही बंदर बाँट देश को खोखला कर देता है

Onkar ने कहा…

ऐसे ही देश की मिट्टीपलीत हो रही है

Ramakant Singh ने कहा…

BEHATARIN LAGHU KATHA